क्यों धोनी और कोहली को स्लेज नहीं करते ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स, डीन जोन्स ने बताई वजह

[ad_1]

नई दिल्ली: पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डीन जोन्स (Dean Jones) ने 2015 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के कैप्टन माइकल क्लार्क (Michael Clarke) के उस बयान को सिरे से खारिज कर दिया है, जिसमें क्लार्क ने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों पर यह आरोप लगाया था कि उन्होनें अपने आईपीएल कॉन्ट्रैक्ट बचाने के लिए विराट कोहली (Virat Kohli) को जानबूझकर स्लेज नहीं किया था. 

यह भी पढ़ें- आज से 27 साल पहले शेन वॉर्न ने फेंकी थी ‘सदी की गेंद,’ हैरान रह गई थी सारी दुनिया

आपको याद दिला दें कि अप्रैल में क्लार्क ने यह कहकर क्रिकेट की दुनिया में हलचल मचा दी थी कि ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स ने विराट के साथ छींटाकशी करना छोड़ दिया था क्योंकि उन्हें मालूम था कि विराट के साथ गलत व्यवहार उनके लिए भारी पड़ सकता है. उनका ऐसा सोचना गलत भी नहीं था क्योंकि विराट हैं तो भारतीय कप्तान और उनके साथ गलत व्यवहार का सीधा असर भारतीय क्रिकेट पर पड़ता ही है, फिर चाहें आईपीएल हो या दो देशों की कोई सीरीज.

जोन्स ने कहा कि दरअसल ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स विराट और एमएस धोनी (MS Dhoni) को इसलिए स्लेज नहीं करते क्योंकि स्लेजिंग इन दोनों खिलाड़ियों के लिए ऑक्सीजन का काम करती है. विराट और धोनी को उकसाने का मतलब है, उनको चैलेंज करना और ये तो पूरा क्रिकेट जगत जानता है कि विराट और धोनी दोनों ही चुनौतियों को स्वीकार करने और उनको हासिल करने में माहिर हैं. ऐसे में दुनिया का कोई भी खिलाड़ी उन दोनों को छेड़ने या चैलेंज देने का मूर्खतापूर्ण कार्य नहीं करेगा क्योंकि अगर उन्होनें ऐसा किया तो मैच का रुख पूरी तरह से बदल जाएगा. यहां समझने की बात यह है कि विराट और धोनी दोनों ही आक्रामक खिलाड़ी हैं और उनको छेड़ना विपक्षी टीम को काफी भारी पड़ सकता है.

डीन जोन्स ने एक यूट्यूब चैनल पर बातचीत के दौरान कहा, ‘मैं आपको इसका कारण बताऊंगा कि वे सभी विराट के सामने चुप क्यों थे. जब विव रिचर्ड्स बल्लेबाजी करने आए तब हम शांत हो गए. हम जावेद मियांदाद और मार्टिन क्रो के आने पर भी चुप हो गए. इसके पीछे यही एक कारण है. आप विराट कोहली या एमएस धोनी को परेशान करना  या उकसाना नहीं चाहते क्योंकि स्लेजिंग उन्हें बहुत पसंद है. उनके लिए वह ऑक्सीजन की तरह है.’

जोन्स ने आगे कहा, ‘उन्हें ऑक्सीजन नहीं दी जानी चाहिए. लेकिन मुझे आईपीएल अनुबंध के कारण विराट को परेशान नहीं करने के बारे में यह कारण थोड़ा बकवास लगता है. क्या विराट किसी को खेलने से रोकने वाले हैं? यह कोच और प्रबंधकों के लिए है,’

क्लार्क के उस बयान को मौजूदा ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन (Tim Paine) ने भी खारिज कर दिया था और कहा था, ‘जिन भी खिलाड़ियों के हाथ में गेंद या बल्ला था, वे सभी अपनी-अपनी तरफ से ऑस्ट्रेलिया को मैच जिताने की पूरी कोशिश कर रहे थे. उन्हें नहीं पता कि कौन उनके साथ अच्छा व्यवहार कर रहा था. हां, हम ये जरुर चाहते थे कि कोहली को उकसाया न जाए, क्योंकि उससे वो काफी बढ़िया खेलने लगते हैं.’



[ad_2]

Source link