कोरोनावायरस के कारण ऑस्ट्रेलिया ने 6 महीने के लिए वीजा प्रतिबंध लगाया, टी-20 वर्ल्ड कप यहीं होगाआईपीएल नहीं होने से भारी नुकसान होगा, इस कारण घरेलू खिलाड़ियों की सैलरी में भी कटौती हो सकती है

खेल डेस्क. कोरोनावायरस के कारण टी-20 लीग आईपीएल को 15 अप्रैल तक के लिए स्थगित किया गया है। इस बीच बीसीसीआई अब अक्टूबर-नवंबर में लीग को आयोजित कराना चाह रही है। यह तभी संभव है जब अक्टूबर-नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाला टी-20 वर्ल्ड कप टल जाए। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा, ‘बोर्ड अक्टूबर-नवंबर में आईपीएल आयोजित करने पर विचार कर रहा है। ऑस्ट्रेलिया ने छह महीने के लिए बाहरी लोगों के आने पर रोक लगा दी है। इससे स्थिति बदल सकती है।’

अधिकारी ने कहा कि अगर आईसीसी मौजूदा स्थिति को देखकर वर्ल्ड कप टाल देती है, तभी हम इसके बारे में सोच सकते हैं। वर्ल्ड कप स्थगित करना अंतिम विकल्प होगा।’

आईपीएल नहीं हुआ तो सैलरी भी नहीं मिलेगी
आईपीएल का मौजूदा सीजन नहीं हुआ तो खिलाड़ियों को सैलरी भी नहीं मिलेगी। फ्रेंचाइजी से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि खिलाड़ियों को टूर्नामेंट शुरू होने के एक हफ्ते पहले 15% सैलरी दी जाती है। 65% टूर्नामेंट के दौरान जबकि बाकी 20% टूर्नामेंट के अंत में दी जाती है। इंडियन क्रिकेटर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक मल्होत्रा ने कहा कि आईपीएल के नहीं होने से भारी नुकसान होगा। इस कारण घरेलू खिलाड़ियों की सैलरी में भी कटौती हो सकती है।

छोटे फॉर्मेट में हो सकता है आईपीएल
वहीं, फ्रैंचाइज़ी राजस्थान रॉयल्स के मालिक मनोज बदाले को उम्मीद है कि इस बार टूर्नामेंट छोटे फॉर्मेट में हो सकता है।  ब्रिटेन में रहने वाले बदाले ने बीबीसी वर्ल्ड सर्विस से कहा, “मैं चाहूंगा कि इस साल किसी भी रूप में आईपीएल का आयोजन हो चाहे यह सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के बीच ही क्यों न खेला जाए, यदि विदेशी खिलाड़ी इस बार नहीं आ पाते हैं। लेकिन अभी यह कह पाना मुश्किल है कि इस बार आईपीएल होगा या नहीं।”

सरकार ने 15 अप्रैल तक वीजा प्रतिबंध लगाए
बीसीसीआई ने केंद्र सरकार द्वारा लगाए गए यात्रा और वीजा प्रतिबंधों के कारण लीग को 15 अप्रैल तक टाल दिया था। केंद्र सरकार ने कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बाद यात्रा और वीजा से जुड़े कुछ प्रतिबंध लगाए थे। इसके तहत भारत आने वाले विदेशी नागरिकों के वीजा 13 मार्च से 15 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड हैं। सिर्फ डिप्लोमैटिक, ऑफिशियल, यूएन और अंतरराष्ट्रीय संस्थान, प्रोजेक्ट और एम्प्लॉयमेंट वीजा को ही छूट है। आईपीएल में आने वाले विदेशी खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ को बिजनेस वीजा मिलता है। ऐसे में उन्हें भी देश में आने की अनुमति नहीं है। आईपीएल की eight टीमों में 189 खिलाड़ी हैं। इनमें 64 विदेशी खिलाड़ी हैं। सरकार के वीजा प्रतिबंधों की वजह से इनपर 15 अप्रैल तक भारत आने पर प्रतिबंध है।