तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में विदेशों और देश के कई हिस्सों से 5 हजार से ज्यादा लोग आएइसमें दिल्ली में 24, अंडमान-निकोबार में 9 और कर्नाटक में एक संक्रमित मिलादिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा- दिल्ली में मंगलवार को 334 लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया

नई दिल्ली. राजधानी के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात के मरकज यानी इस्लामिक धार्मिक आयोजन केंद्र में कोरोनावायरस संक्रमण का सबसे बड़ा मामला सामने आया है। इसका कनेक्शन दिल्ली समेत 11 राज्यों से जुड़ रहा है। इनमें महाराष्ट्र, असम, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, पुडुचेरी, तमिलनाडु , कर्नाटक, अंडमान-निकोबार, आंध्र प्रदेश और श्रीनगर शामिल है। 1 से 15 मार्च के दौरान हुए इस कार्यक्रम में देश और विदेश के 5 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने मंगलवार को बताया कि मरकज बिल्डिंग में मौजूद 24 लोग पॉजिटिव निकले हैं। सतेंद्र जैन ने बताया कि हम यह नहीं बता सकते हैं कि लॉकडाउन के दौरान मरकज बिल्डिंग में कितने लोग मौजूद थे, लेकिन यह तादाद 1500 से 1700 हो सकती है। 1033 लोगों को बाहर निकाला गया है।

लॉकडाउन से पहले देश के कई हिस्सों से शामिल हुए लोग अपने घरों को लौट गए। इनमें से अंडमान-निकोबार के 10 में से 9 लोग पॉजिटिव निकले। एक संक्रमित कर्नाटक मिला। इस तरह अब तक 34 जमातियों के संक्रमित होने की खबर सामने आ रही है। हालांकि, इनकी संख्या इससे ज्यादा हो सकती है। उधर, तेलंगाना सरकार ने बताया कि इस कार्यक्रम शामिल हुए 6 संक्रमित लोगों की मौत हो गई है। इसी तरह, एक जमाती की मौत श्रीनगर में हुई।  

दिल्ली में 700 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया

सतेंद्र जैन ने बताया कि सोमवार से अब तक 334 लोगों को अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। वहीं, 700 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है। उन्होंने कहा कि जब देश में लॉकडाउन था, उस वक्त इस तरह की गतिविधि करना अपराध है। राजधानी में आपदा अधिनियम और संक्रामक रोग अधिनियम लागू है। इसके तहत 5 से ज्यादा लोग जमा नहीं हो सकते। इसके बाद भी इन्होंने यह किया। मैंने दिल्ली के एलजी को इनके खिलाफ कार्रवाई करने को लिखित में दिया है। इसके अलावा, दिल्ली सरकार एफआईआर दर्ज करने जा रही है। राजधानी में कोरोना संक्रमण के मंगलवार तक 97 मामले सामने आए हैं। दो लोगों की मौत हो चुकी है। 6 लोग स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं।

तमिलनाडु में एक हजार लोगों की तलाश

  • तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग के अफसर ने बताया कि राज्य में इस कार्यक्रम में शामिल हुए एक हजार लोगों की तलाश की जा रही है। उधर, यूपी ने बताया कि राज्य से 157 लोग शामिल हुए थे। इनकी जानकारी इकट्ठा की जा रही है।
  • तेलंगाना सरकार ने सोमवार रात को बताया कि मरकज के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों ने राज्य में दूसरे लोगों को संक्रमण फैलाया है। इन लोगों में से 6 की मौत हो गई है। इनमें से दो की गांधी अस्पताल में मौत हुई। अपोलो अस्पताल, ग्लोबल अस्पताल, निजामबाद और गढ़वाल अस्पताल में एक-एक की जान गई।
  • मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,दिल्ली से अंडमान निकोबार लौटे 10 लोग पॉजिटिव पाए गए। उधर, कश्मीर के करीब 100 लोगों ने इसमें हिस्सा लिया। इनमें से एक व्यक्ति श्रीनगर से था। इसकी मौत हो गई।
  • कर्नाटक सरकार ने बताया कि राज्य के ज्यादातर जिलों से लोगों ने दिल्ली में तब्लीगी जमात कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। बेंगलुरु के 24 लोग हैं। हमने 54 लोगों को क्वारैंटाइन किया है। Eight लोग बिदार से हैं। इनमें से एक पॉजिटिव है। हमने उसे अलग-थलग कर दिया।  
  • उधर, असम के 299 लोगों ने भी तब्लीगी जमात कार्यक्रम में हिस्सा लिया था। सरकार इनकी जानकारी जुटा रही है। 

पूरे मामले को ऐसे समझिए

1. मरकज बिल्डिंग: इस्लामी शिक्षा का दुनिया में सबसे बड़ा केंद्र 
निजामुद्दीन का यह मरकज इस्लामी शिक्षा का दुनिया में सबसे बड़ा केंद्र है। यहां कई देशों के लोग आते रहते हैं। यहां तब्लीगी जमात के मरकज में 1 से 15 मार्च तक 5 हजार से ज्यादा लोग आए थे। इनमें इंडोनेशिया, मलेशिया और थाईलैंड के लोग भी शामिल थे। 22 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी यहां 2 हजार लोग ठहरे हुए थे। इनमें से 300 से ज्यादा लोगों के कोरोना संक्रमित होने की आशंका है। इन्हें सर्दी, खांसी और जुकाम की शिकायत है।

2. बुजुर्ग को तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल ले गए तो हुआ जमावड़े का खुलासा
दिल्ली की निजामुद्दीन कॉलोनी स्थित तब्लीगी जमात में 14-15 मार्च के बाद से लगातार विदेशियों का आना-जाना लगा था। 100 विदेशियों के अलावा यहां 1900 से ज्यादा लोग मौजूद थे। जनता कर्फ्यू और फिर लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी मरकज प्रमुख ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया। इसी बीच, यहां रुके तमिलनाडु के 64 साल के बुजुर्ग को तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल ले जाना पड़ा था, जहां रविवार को उनकी मौत हो गई। अभी उनकी जांच रिपोर्ट नहीं आई है। मौत की सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन ने सक्रियता दिखाते हुए मरकज में जांच की। यहां एक-एक कमरे में 8-10 लोग ठहरे थे। इनमें से कई को हल्की खांसी और जुकाम की शिकायत भी थी। इतनी तादाद में संदिग्ध मिलने पर प्रशासन ने डीटीसी की बसें लगाकर लोगों को तीन अस्पतालों में पहुंचाया। इसके बाद सोमवार देर शाम तेलंगाना के मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि आयोजन में गए उनके राज्य के 6 लोगों की मौत हो गई है। कश्मीर के सोपोर से यहां पहुंचे एक अन्य 65 साल बुजुर्ग ने भी पिछले हफ्ते श्रीनगर में कार्डियक अरेस्ट के बाद दम तोड़ दिया था। देश के अलग-अलग राज्यों ने तब्लीगी जमात में गए लोगों को चिह्नित करना शुरू कर दिया है।

3. दूसरे राज्यों में 800 लोग जा चुके हैं, इन्हें खोजा जा रहा है

विदेश से आए लोग यहां काफी समय से रह रहे थे। सोशल डिस्टेंसिंग की तमाम अपीलों के बावजूद यहां हजारों लोग मौजूद थे। पिछले दिनों यहां से करीब 800 लोग बाहर जा चुके हैं। पुलिस इन्हें ढूंढ़ रही है। आशंका जताई जा रही है कि ये लोग अन्य राज्यों में भी पहुंच चुके हैं। यूपी सरकार ने 18 जिलों की पुलिस को इन्हें ढूंढ़ने के आदेश दिए हैं।

दिल्ली की निजामुद्दीन इलाके की मरकज बिल्डिंग की ड्रोन से निगरानी की जा रही है।